Popular Posts

मंगलवार, 29 मार्च 2011

सीतायन

''जन्म से जीवन के अंतिम क्षण तक असीम दुर्भाग्य का अंधकार जिसकी छायासंगिनी है, उसी सीता को नए आलोक में पहचानने और समझने का प्रयास है सीतायन. सीतायन केवल रामायण से ध्वनिसाम्य ही नहीं रखता बल्कि यह उपन्यास सीता के जीवन परिक्रमा की एक आधुनिक गद्यगाथा है. छत्तीस वर्षीय सीता उस समय संतानसंभवा थी. सीता के जीवन और व्यक्तित्व को एक नवीन दृष्टिकोण से समझने का प्रयास है यह उपन्यास."
सीतायन मूलतः माल्लिका सेनगुप्ता विरचित एक बंगला उपन्यास है. इस उपन्यास का प्रथम संस्करण नवंबर, १९९६ में प्रकाशित हुआ था. मैंने इस उपन्यास का अनुवाद किया है. थोड़ा- थोड़ा करके पूरे उपन्यास को यहाँ पोस्ट करने की मेरी परिकल्पना है. 
                                                       
                                                                                                                               इति
                                                                                                                               तनया


1 टिप्पणी:

  1. मेरे खयाल से इस नाम से एक फिल्म भी बन चुकी है, एनिमेटेड । मैंने सारी तो नहीं लेकिन कुछ झलकियाँ देखी है....अनुवाद पढ़ते रहेंगे

    उत्तर देंहटाएं