Popular Posts

रविवार, 13 नवंबर 2011

मैं तुम्हें
देख लेना चाहती हूँ
एक बार,
कभी-कभार
सभा में, पंक्ति में,
वहाँ भी जहाँ तुम्हारे सिवा
कोई न हो,

तुम्हारी नज़रों से बचकर भी
मेरी आँखें तुम्हें
देख लेना चाहती है एकबार...

-तनया 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें