Popular Posts

सोमवार, 23 जनवरी 2017

और यह अध्याय
यूँ पूरा हुआ जीवन का...
अधूरी रही बातें,..
अधूरे रहे सपने...
अधूरे रहे मनमुटाव...
न हुआ सुखांत,
न ही दुखांत...
खुश रहने के,
साथ निभाने के
वादों से हुए आज़ाद...